सितंबर से दिसंबर तक जितने भी लोग कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं अब सेहत विभाग उनके सैंपलों का भी जीनोम टेस्ट करवाएगा। अब तक सेहत विभाग उन्हीं लोगों के सैंपल की जीनोम सिक्वेंसिंग करवा रहा था जो लोग इंग्लैंड से आए हैं या इंग्लैंड से होकर भारत आए हैं। जीनोम सिक्वेंसिंग से ही कोरोना वायरस की नई स्ट्रेन का पता चलता है। अब कोरोना सैंपल की जीनोम सिक्वेंसिंग को लेकर नई गाइडलाइन जारी की गई हैं।

जिला प्रशासन और सिविल सर्जन को पिछले साल सितंबर से दिसंबर तक पाजिटिव पाए गए कुल सैंपलों के पांच फीसद सैंपलों का जीनोम टेस्ट करवाए के लिए कहा गया है। इसके अलावा नियमित तौर पर जो लोग कोरोना पाजिटिव पाए जा रहे हैं उनमें से भी पांच फीसद सैंपलों का जीनोम टेस्ट करवाया जाएगा। यह सैंपल जांच के लिए नई दिल्ली स्थित एनसीडीसी या सीएसआइआर भेजे जाएंगे। सेहत विभाग का मानना है कि इसे पता लगाया जाएगा कि कहीं पहले से ही कोरोना वायरस की नई स्ट्रेन अपने यहां तो नहीं है।

32 नए मामले, एक मरीज की मौत:
बुधवार को कोरोना के 32 नए मामले सामने आएं। 25 मामले जिले से संबंधित हैं जबकि सात अन्य जिलों से हैं। आयकर कालोनी में छह नए केस मिलने पर उसे माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। वहीं जम्मू-कश्मीर की रहने वाली एक महिला की कोरोना से मौत हुई है।